ad

ad

ad

शिक्षिका का क्वार्टर खाली करने पहुचे अधिकारियों को भोपाल से आया फोन, बाद में बताया कार्रवाई में त्रुटि

मध्यप्रदेश के भिंड जिले के मेहगांव में शिक्षिका का क्वार्टर खाली करने गए अफसर की हालत उस वक्त खराब हो गई जब उन्हे अचानक ही भोपाल से किसी बड़े अफसर का फोन आ गया। हालांकि अफसर को कुछ समझ नहीं आया और उन्होंने कार्रवाई में त्रुटि बताते हुये हुआ से चल दिये।

ad

1

ad

मध्यप्रदेश के भिंड जिले के मेहगांव में शिक्षिका का क्वार्टर खाली करने गए अफसर की हालत उस वक्त खराब हो गई जब उन्हे अचानक ही भोपाल से किसी बड़े अफसर का फोन आ गया। हालांकि अफसर को कुछ समझ नहीं आया और उन्होंने कार्रवाई में त्रुटि बताते हुये हुआ से चल दिये।

Related Posts
1 of 5

ad

दरअसल पूरा मामला, भिंड जिले की जनपद मेहगांव का है जहां शिक्षा विभाग में अध्यापिका वंदना दुबे को एक सरकारी क्वार्टर अलॉट हुआ था। अध्यापिका को स्थानीय स्तर पर क्वार्टर को खाली करने का निर्देश पहले ही दे दिया गया था। इसके अलावा 24 घंटे पहले भी सरकारी क्वार्टर में एक नोटिस लगा कर क्वार्टर को खाली करने का आदेश दिया गया था।

वही जब सोमवार को तहसीलदार प्रदीप केन, आरआइ विनोद तोमर व पटवारी समेत नगर परिषद के कर्मचारी व पुलिस का अमला क्वार्टर खाली कराने के लिए पहुचा। और क्वार्टर खाली करने का पंचनामा बना कर समान जप्त ही कर रहा था तभी भोपाल से एक फोन आया। इसके बाद क्वार्टर खाली करने पहुचे अमले के हाथ- पैर फूल गए , इसके बाद क्वार्टर खाली कराने पहुचे अफसर ने इसे कार्रवाई में त्रुटि बताते हुए रफूचक्कर हो गए।

ad

ad

You might also like

ad

startup के लिये युवाओं को बिना ब्याज के 10 लाख तक का लोन beauty tips :- सर्दी में ऐसे रखे अपनी त्वचा का ख्याल ये फलों को खाने से जोड़ों में जमा Uric acid जल्दी हो जाता है खत्म दुनिया के लगभग 84 देशों के WhatsApp यूजर्स के मोबाईल नंबर हुए लीक MPPSC 2018 के Interview में पूछे गये महतपूर्ण प्रश्न